आज 235 साल का हुआ गोलघर,पटना की शान गोलघर! जब बना तो बगल से बहती थी गंगा, अब 2 किमी दूर

0
1044
Share

पटना की पहचान गोलघर आज 235 वर्ष का हो गया। गवर्नर जनरल वॉरेन हेस्टिंग को 20 जनवरी 1784 को खाद्यान्न के एक कारोबारी जेपी ऑरियल ने एक बड़ा अन्न भंडार बनाने की सलाह दी थी। हेस्टिंग 1770 के अकाल, जिसमें बिहार-बंगाल और ढाका में 10 लाख से अधिक लोग मरे थे, का स्थायी समाधान खोजना चाहते थे। हेस्टिंग ने यह जिम्मा बंगाल आर्मी के इंजीनियर कैप्टन जॉन गार्स्टीन को सौंपा।

गार्स्टीन ने गोलघर के निर्माण के लिए बांकीपुर में डेरा जमाया। ‘बंगला गार्स्टीन साहब‘ ही आज का बांकीपुर गर्ल्स हाई स्कूल हैै। गोलघर का निर्माण 20 जुलाई 1786 को पूरा हुआ। बनने के बाद ही इसकी कमियां सामने आने लगीं। दरवाजे भीतर की ओर खुलते हैं, सो इसे कभी पूरा भरा नहीं जा सकता। वहीं गर्मी के कारण इसमें अनाज जल्दी सड़ जाता था। लिहाजा यहां कभी अनाज संग्रह हो ही नहीं सका। अंग्रेजों इसे गार्स्टीन की मूर्खता करार दिया। फिर भी यह अनोखी आकृति के कारण लोकप्रिय बना हुआ है।

चित्रकार स्मिथ की है ये पेंटिंग

ब्रिटिश लाइब्रेरी में गोलघर की यह पेंटिंग 206 साल पुरानी है जिसे अंग्रेज चित्रकार रॉबर्ट स्मिथ ने 1814-15 में बनाया था। तब गोलघर से थोड़ी ही दूर गंगा बहती थी। स्मिथ ने अपनी पेंटिंग का नाम ‘ग्रेन गोला एट बांकीपुर, नियर पटना’ रखा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here