कर्फ्यू के लिए बैरियर-ड्रॉप गेट लग रहा, दुकानों-प्रतिष्ठानों के लिए चालान लेकर निकल चुके मजिस्ट्रेट

0
419
Share

नाइट कर्फ्यू का खाका तैयार कर लिया गया है। अब रात में बेवजह घूमते मिले तो आपके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इतना ही नहीं शाम 6 बजे दुकानों का शटर नहीं गिरा तो भी कार्रवाई तय है। इसके लिए थानों की पुलिस के साथ क्षेत्र के मजिस्ट्रेट को जिम्मेदारी दी गई है। प्रमुख चौक चौराहों पर पुलिस बल की तैनाती कर लोगों की फालतू आवाजाही रोकने के लिए बैरियर, ट्रॉली, ड्रॉप गेट लगाने का निर्देश दिया गया है। सोमवार को पटना DM डॉ चंद्रशेखर सिंह और SSP उपेंद्र शर्मा ने पुलिस और राजस्व अधिकारियों के साथ बैठक कर नाइट कर्फ्यू का ब्लू प्रिंट तैयार किया है।

संक्रमण की रफ्तार रोकने के लिए बड़ा प्लान

DM और SSP ने कहा है कि संक्रमण की रफ्तार रोकने के लिए हर स्तर पर मॉनिटरिंग की जा रही है। इसके लिए सरकार ने नाइट कर्फ्यू की योजना बनाई है। इसकी सफलता के लिए कोषांग के वरीय अधिकारियों, नोडल पदाधिकारियों तथा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के साथ बैठक में रणनीति बनाई गई है। बैठक में नाइट कर्फ्यू के तहत सरकार की गाइडलाइन का पालन कराने का निर्देश दिया गया है।

शाम 6 बजे तक बंद करा दें दुकानें

DM ने सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को निर्देश दिया है कि शाम को 6 बजे तक अपने अपने क्षेत्र की दुकानों को बंद कराने का काम कराएं। इसके लिए कड़ी कार्रवाई भी की जाए। DM ने महत्वपूर्ण चौक-चौराहों पर बैरियर, ट्रॉली, ड्रॉप गेट लगाने तथा पुलिस फोर्स की तैनाती कर लोगों के अनावश्यक आवाजाही पर रोक लगाने का भी निर्देश दिया है। इसके साथ ही आवश्यक सेवाओं का भी ध्यान रखने को कहा। नाइट कर्फ्यू संबंधी आदेश तथा कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन कराने के लिए आम लोगों के बीच प्रचार-प्रसार करने पर भी जोर दिया गया है।

जागरूकता वाहन किया गया रवाना

सोमवार को हिंदी भवन परिसर से जिलाधिकारी ने 24 प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रूट चार्ट के अनुरूप सभी वाहन शहरी क्षेत्र के प्रमुख मार्गों पर चलकर लोगों को जागरूक करने का काम करेंगे। प्रचार वाहन के माध्यम से लोगों को अपने-अपने घरों से अनावश्यक नहीं निकलने तथा भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में नहीं जाने और मास्क लगाने, 2 गज की सामाजिक दूरी का पालन करने के बारे में अवगत कराया जाएगा।

स्वास्थ्य केंद्रों को किया गया अलर्ट

DM ने सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को PHC, CHC एवं रेफरल अस्पताल के तहत एक-एक प्रचार वाहन चलाने का निर्देश दिया है, ताकि ग्रामीण क्षेत्र में रहने वालों लोगों को भी जागरूक एवं प्रेरित किया जा सके। सभी अनुमंडल पदाधिकारी होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों की आशा के माध्यम से मॉनिटरिंग करेंगे, ताकि ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों पर भी नजर रखी जा सके तथा समुचित इलाज किया जा सके। DM ने होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों का आशा के माध्यम से 10 दिनों तक मॉनिटर करने का निर्देश दिया है।

प्रखंडवार तैयार की जा रही रिपोर्ट

DM ने प्रखंडवार रिपोर्ट तैयार कर पंचायतवार, गांववार आशा के माध्यम से मॉनिटरिंग करने को कहा है। इसके लिए संबंधित गांव में पॉजिटिव केस की संख्या, रिकवरी किए हुए व्यक्तियों की संख्या्, एक्टिव केस की संख्या संबंधी डाटा तैयार करने तथा प्रतिदिन निगरानी रखने का निर्देश दिया, ताकि ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों पर भी समुचित नजर रखी जा सके। आवश्यकतानुसार कंटेनमेंट जोन बनाने, कांटेक्ट ट्रेसिंग करने तथा मेडिकल किट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here