तख्त श्री हरिमंदिर पटना साहिब व बाललीला गुरुद्वारे को बम से उड़ाने की धमकी, 50 करोड़ फिरौती मांगी

0
406
Share

एक माह के अंदर पचास करोड़ रुपये की फिरौती नहीं देने पर विश्व में सिखों के दूसरे सबसे बड़े तख्त श्री हरिमंदिर पटना साहिब तथा बाललीला गुरुद्वारा को बम से उड़ाने की धमकी रजिस्टर्ड डाक से तख्त साहिब के पते पर भेजे गए पत्र द्वारा दी गई है। फिरौती और धमकी वाला पत्र मिलने के बाद प्रबंधक समिति के पदाधिकारियों के बीच हडकंप मच गया है।

दोषी व्यक्ति पर कार्रवाई की गुहार

प्रबंधक समिति के महासचिव महेंद्रपाल सिंह ढिल्लन ने बिहार के डीजीपी को इस संदर्भ में पत्र भेज कर त्वरित कार्रवाई करते हुए दोषी व्यक्ति पर कार्रवाई की गुहार लगाई है। वहीं उसी लिफाफा में एक दूसरे पत्र में मारवाड़ी उच्च विद्यालय के प्राचार्य तथा दो शिक्षकों पर पुराने धर्म ग्रंथों को जलाने, बेचने और नष्ट करने का आरोप लगाया गया है। प्रथम दृष्टया यह माना जा रहा है कि शरारती तत्वों द्वारा पत्र भेजा गया है। पूर्वी एसपी जीतेंद्र कुमार ने बताया कि पूरे मामले की गहन छानबीन कर दोषी की खोज की जा रही है।

गांघी नगर के पते से आया है पत्र

तख्त श्री हरिमंदिर के प्रबंधक समिति के महासचिव के नाम से कंकड़बाग महात्मा गांधी नगर सीएच कॉलोनी के कांटी फैक्ट्री रोड के हाऊस नंबर 1 एच/ 9 के रंजन कुमार के नाम से भेजे निबंधित डाक में पचास करोड़ फिरौती की मांग की गई है। पत्र में दो मोबाइल नंबरों पर संपर्क करने को कहा गया है। पुलिस को सूचना देने पर जान मारने की धमकी दी गई है। इस धमकी से सभी डरे-सहमे हैं।

मारवाड़ी विद्यालय के एक कर्मी के नाम से आया है दूसरा पत्र

महासचिव एमपीएस ढिल्लन ने बताया कि उसी दिन मारवाड़ी उच्च विद्यालय के कामेश्वर प्रसाद द्वारा भेजे दूसरे निबंधित डाक में प्राचार्य द्वारा दर्जनों मूल ग्रंथ तथा धार्मिक ग्रंथों को जलाने, बेचने तथा नष्ट करने की बात कही गई है। पत्र में विद्यालय के दो शिक्षकों के शामिल होने की बात कही गई है। महासचिव ने बताया कि दोनों निबंधित डाक देखने से प्रतीत होता है कि एक ही व्यक्ति द्वारा धमकी भरा पत्र भेजा गया है।

पूर्व में भी गुरुद्वारा उड़ाने की मिली थी धमकी

वर्ष 2017 के जनवरी माह के प्रथम सप्ताह में चौक थाना के तत्कालीन थानाध्यक्ष अशोक कुमार पांडे के मोबाइल पर गुरुद्वारा को बम से उड़ाने का एसएमएस मिलने के बाद हड़कंप मच गया था। बाद में जांच-पड़ताल में एक दूसरे को फंसाने का मामला उभरकर सामने आया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here