तांत्रिक ने कहा तो मरे बच्चे को दफनाकर डायन का इंतजार कर रहे थे लोग,2 लड़कियां घूमती मिली तो उन्हें ही नंगाकर पीटा

0
1029
Share

जमुई के सिमुलतला थानाक्षेत्र के गादी टेलवा गांव में अंधविश्वास और तांत्रिक के चक्कर में लोगों ने हैवानियत की सारी हदें पार कर मानवता को शर्मसार कर दिया। मैट्रिक-इंटर में पढ़ रही दो छात्राओं पर डायन का आरोप लगाते हुए पकड़ा और नग्न कर दोनों की जमकर पिटाई कर दी। फिर दोनों के बाल भी काट दिए। इतना ही नहीं, दोनों को बंधक बनाए रखा और रह-रहकर उसकी पिटाई भी करते रहे। साथ ही इस घटना का वीडियो भी बनाया। ग्रामीण दोनों किशोरियों पर एक मृत बच्चे को जीवित करने का दबाव बना रहे थे।

तांत्रिक के चक्कर में घटी शर्मनाक घटना

घटना एक तांत्रिक द्वारा अंधविश्वास फैलाने के कारण घटी। 22 मई को गादी टेलवा गांव निवासी राकेश साह के पांच माह के बच्चे सत्यम की मौत हो गई थी। मौत के बाद परिजन बच्चे को झाड़-फूंक कराने के लिए एक तांत्रिक के पास चले गए। वहां तांत्रिक ने बताया कि बच्चे की मौत एक डायन की वजह से हुई है। बच्चे को नदी किनारे बालू में जाकर दफन कर दो और निगरानी रखो। रात को डायन उसे खेलाने आएगी।

तांत्रिक की बात में आकर ग्रामीणों ने वैसा ही किया। 22 मई को नदी में बच्चे को गाड़ कुछ लोग निगरानी करने लगे। इसी क्रम में 24 मई की रात करीब 1:30 बजे नदी किनारे घूमते हुई एक 18 वर्षीय और 16 वर्षीय बच्ची मिल गई, जिसे पकड़ इस शर्मनाक घटना को अंजाम दे दिया।

मृत बच्चे को जिंदा करने का भी डाला दबाव

मृत बच्चे के परिजनों ने घटना के बाद दोनों किशोरियों को बंधक बना लिया और नदी में दफन किए नवजात के शव को बाहर निकाल घर ले आए। उसके बाद ग्रामीणों-परिजनों ने दोनों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया कि उसे जीवित करो। दोनों लड़कियां दर्द से कराहती रहीं और लोगों से हाथ जोड़ छोड़ देने की विनती करती रहीं, लेकिन वहां खड़ी भीड़ ने उनकी एक न सुनी।

लड़कियों को छुड़ाने पहुंची पुलिस से भी नोंक-झोक

सिमुलतला पुलिस को जब इस बात की सूचना मिली तो दल-बल के साथ गादी टेलवा गांव पहुंच गए। वहां बंधक बनी लड़कियों को छुड़ाने का प्रयास किया तो ग्रामीणों ने पुलिसवालों को ही खदेड़ दिया। बाद में SSB के जवानों ने बल प्रयोग कर काफी नोंक-झोंक के बाद बंधक बनी दोनों को छुड़ाया और पूछताछ की।

लड़कियों ने पुलिस को बताया कि दोनों आपस में चचेरी बहन हैं और शौच करने के लिए नदी जा रही थी। इसी बीच अचानक डायन कहकर लोगों ने पकड़ लिया। मेरा सारा कपड़ा फाड़ दिया और नग्न कर मारपीट की, फिर मेरे बाल भी काट दिए। दोनों लड़कियां बगल के घांसीतरी गांव की हैं। उघर घांसीतरी के ग्रामीणों ने बताया कि एक बच्ची का गादी टेलवा गांव निवासी युवक से प्रेम-प्रसंग था और उसी ने कॉल कर बुलाया था।

11 को नामजद कर दर्ज की गई प्राथमिकी

मामले में झाझा सर्किल इंस्पेक्टर सुशील कुमार सिंह ने बताया कि डायन का आरोप लगाकर मारपीट करना और नग्न करना अपराध है। ग्रामीणों को ऐसा करने का कोई हक नहीं है। पीड़िताओं को इलाज के लिए रेफरल अस्पताल झाझा भेज दिया गया है। उनके बयान पर 11 लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है, बहुत जल्द सभी गिरफ्त में होंगे।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here