दलाल ने मरीज को 15 यूनिट खून 60 हजार में बेचा, ब्लड बैंक से चल रहा दलालों का नेटवर्क; पीड़ित ने कहा- जहर खाकर मर जाएंगे

0
408
Share

पटना मेडिकल कॉलेज में लाल खून का काला कारोबार हो रहा है। इसमें ब्लड बैंक के कर्मचारियों और दलालों का नेटवर्क सामने आ रहा है। ब्लड बैंक से ऑपरेट हो रहे गुड्डू नाम के एक दलाल ने 15 यूनिट खून 60 हजार में बेचा है। यह खुलासा PMCH के टाटा वार्ड में मां का इलाज करा रहे भोजपुर के अनूप कुमार ने किया है। अनूप का कहना है कि डॉक्टर की डिमांड के बाद भी ब्लड बैंक से उन्हें खून नहीं दिया गया और काउंटर से दलाल के पास भेज दिया गया। दलाल ने कई बार नगद पैसा लिया और ऑनलाइन ट्रांजैक्शन भी कराया है जिसका अनूप के पास पूरा रिकॉर्ड है।

पीड़ित का कहना है कि इलाज का सारा पैसा खून के दलाल ने लिया है। अब वह परेशान है। उसे खून नहीं मिल पा रहा है। पीड़ित ने कहा अब जहर खाकर मर जाएंगे तब प्रशासन सुनेगा क्या?

वीडियो वायरल कर बेटे ने कहा- जहर खाकर मर जाएंगे

टाटा वार्ड में भर्ती उर्मिला देवी को पेट में समस्या है। लीवर में गड़बड़ी के कारण ब्लीडिंग हो रही है। 65 साल की उर्मिला के बेटे अनूप कुमार का कहना है कि वह 70 दिनों से अस्पताल में हैं। PMCH के टाटा वार्ड में भर्ती उर्मिला के बेटे अनूप का कहना है कि वह ब्लड के दलालों को पैसा दे देकर बिक गया है। अब उसके पास पैसा ही नहीं बचा है। सोशल मीडिया पर टाटा वार्ड के अंदर से वीडियो वायरल कर अनूप ने अस्पताल में जहर खाने की भी बात कही है।

वीडियाे में टाटा वार्ड की व्यवस्था की पोल खोलते हुए अनूप ने कहा कि यहां कोई देखने वाला नहीं है। 7 दिन से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। एंडोस्कोपी डॉक्टरों ने लिखा है लेकिन अभी तक जांच नहीं की गई है। मां की हालत दिन प्रतिदिन खराब हो रही है। पेशेंट आ रहे लेकिन बच कर कम ही जा रहे हैं। यहां कोई नियम कानून नहीं है, सब फेल है।

मोबाइल नंबर 7739422040 पर भेजा पैसा

अनूप का कहना है कि डॉक्टरों के कहने पर अब तक 22 से 25 यूनिट खून ले चुके हैं। इसमें कुछ रिश्तेदार और घर वालों ने डोनेट किया तब खून मिला। ब्लड बैंक पर आरोप लगाते हुए कहा है कि एक नंबर काउंटर से ही दलाल का इशारा किया गया था। इसके बाद वह गुड्‌डू के मोबाइल नंबर 9472585708 पर बात कर लगातार खून खरीदा है। 15 यूनिट के लिए गुड्‌डू ने 60 हजार रुपया लिया है। अनूप का कहना है कि कई बार तो गुड्‌डू ने नगद पैसा लिया है। बाद में जब शक हो गया तो वह ऑनलाइन पेंमेट अपने नंबर पर लेना बंद कर दिया। उसने 7739422040 नंबर दिया। यह किसी शशिकांत के नाम से दिखता है। इस नंबर पर अनूप से पैसा लेता था।

अनूप का आरोप है कि ब्लड बैंक से डोनर को कोई न कोई कारण बताकर वापस कर दिया जाता है। इसके बाद दलालों का कारोबार होता है। दलालों पर कोई अंकुश नहीं लग रहा है। पीड़ित अनूप की मानें तो हर मरीज के साथ ऐसा ही हो रहा है। काउंटर से ही दलालों को इशारा कर बताया जाता है इसके बाद दलाल पैसा चूसते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here