परिहार के इस लाल कों टीवी जगत ने नही दिया था जगह, आज है भोजपुरी का सबसे बड़ा खलनायक

0
1754
Share

जी हाँ आप सही सुन रहे है परिहार प्रखंड के सुतिहारा गांव के अवधेश अब भोजपुरी फिल्मो में अवधेश मिश्रा है,और खलनायक कि सूचि में सबसे पहले पायदान पर है|कभी टीवी कि दुनिया में जगह बनाने कों बेताब थे| लेकिन अब समय ऐसा है कि निर्माता निर्देशक अपने फिल्मो में लेने के लिए उनके सामने लाइन लगाते है|

संघर्ष भड़ी है कहानी
पत्नी कों लेकर भागे थे मुंबई | संघर्ष हर किसी के दौर में आता है लेकिन जब आप अकेले होते है तो बात अलग होता है| जब मै अकेला होता था तो यार्ड या कही और सो लेता था लेकिन जब मेरे जीवन में मेरी पत्नी,बेटी आई तो जिम्मेदारी बढ़ी बच्चो कि भूख किसी माँ बाप से सही नही जाती है| एक समय ऐसा था जब सिर्फ खाना ही महत्वपूर्ण था मेरे अंदर हुनर था पेंटिंग और ड्राइविंग कि अभिनय के दुनिया में संघर्ष करते करते इस स्थिति पर पहुँच गया था मतलब जो काम मिलता था कर लेते थे|
टीवी में नही मिला काम
1995 में टीवी का दौर था मैंने वहा कोशिश कि लेकिन किसी ने काम नही दी,कमिया मेरे अंदर थी,उतना अंग्रेजी मै नही बोल पाता था,सिनेमा के लिए मै किसी दृष्टिकोण से सही नही था
अन्त समय में मिला काम
रंगमंच कि दुनीया से भोजपुरी फिल्मों में खलनायक तक का सफर तय करने वाले अवधेश मिश्रा बताते है कि मै भोजपुरी फिल्मों में कभी नही जाना चाहता था,लेकिन एक समय ऐसा आया जो भोजपुरी फिल्म करना मेरी मज़बूरी बन गई और उस समय से सिलसिला बन गया भोजपुरी में काम करने का|एक फिल्म दूल्हा अईसन चाही से शुरू किया काम |2500 रूपये इस फिल्म का साइनिंग अमाउंट था
कहानी का नायक बनना चाहूँगा
नायक बनने के सवाल पर अवधेश मिश्रा ने बताया कि कहानी का नायक बनना चाहूँगा,फिल्मों का नही|कई फिल्मों ने ऐसे अभिनय किये है आगे भी करूँगा
परिवार मेरे लिए सबसे महत्वपूर्ण है|
जितना समय मै मुंबई में रहता हूँ, परिवार के साथ रहता हूँ, कही से भी आता हूँ, तनाव दूर हो जाता है,मेरे परिवार में एक पत्नी है एक बेटा और एक बेटी है माँ ज्यादा समय मेरे पास ही रहती है|भाई है जो पटना और गांव में रहते है
बेटा और बेटी कि इक्षा नही है फिल्मों में
एक बेटा है जो आईएएस बनना चाहता है बेटी मेडिकल करना चाहती है,सिनेमा से किसी कों कोई लगाव ही नही है सिनेमा में मै अकेला ही हूँ
परिवार कों सो समझ कर दिखता हूँ फिल्म
जो मुझे लगता है वही फिल्म मै परिवार वालो कों दिखता हूँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here