मिड डे मील और पोशाक राशि के बहाने स्कूल बुलाया,तस्वीरें खींची और वायरल करने की धमकी देकर 3 महीने तक करता रहा दुष्कर्म

0
663
Share

अररिया में एक सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल पर कभी मिड डे मील तो कभी पोशाक की राशि दिलाने के बहाने 14 साल की नाबालिग छात्रा से रेप करने का आरोप लगा है। पहली बार रेप करने के बाद प्रिंसिपल ने उसकी नंगी तस्वीरें ले ली और वायरल करने की धमकी देकर 3 महीने तक रेप करता रहा। इसमें छात्रा प्रेग्नेंट भी हो गई। इसका खुलासा तब हुआ जब गांववालों ने प्रिंसिपल को रंगेहाथों पकड़ लिया।

छात्रा के पिता ने महिला थाना में केस दर्ज कराया है। पुलिस ने आरोपी प्रिंसिपल रोशन जमीर को गिरफ्तार कर लिया है। वह महलगांव थाना क्षेत्र के उत्क्रमित मध्य विद्यालय प्रसादपुर डुमरिया का प्रिंसिपल है।

प्रिंसिपल के कुकृत्य का यूं हुआ पर्दाफाश

29 जून की शाम को नाबालिग छात्रा के पिता के मोबाइल पर आरोपी प्रधानाचार्य रोशन जमीर ने अपने मोबाइल से फोन कर बताया कि मिड डे मील का सूखा राशन छात्राओं को दिया जा रहा है। वह अपनी बेटी को राशन लेने के लिए स्कूल भेज दें। प्रिंसिपल के फोन आने के बाद छात्रा के पिता ने बच्ची को स्कूल भेज दिया। जब नाबालिग छात्रा स्कूल गई तो प्रिंसिपल उसे लेकर छत पर चला गया और छेड़छाड़ करने लगा। प्रिंसिपल की इस हरकत को एक स्थानीय ज्ञानदीप शर्मा ने देख लिया और उसके पिता को फोन कर सारी जानकारी दे दी। इसके बाद छात्रा के पिता अपने भाइयों और ग्रामीणों के साथ स्कूल परिसर पहुंचे तो प्रिंसिपल को गलत काम करते रंगे हाथों पकड़ लिया।

छात्रा ने कुकृत्य का खोला काला चिट्ठा

गांव वालों ने छात्रा से पूछताछ की। छात्रा ने बताया कि तीन माह पहले पोशाक और राशन का लालच देकर उसके साथ रेप किया था और उसकी आपत्तिजनक नग्न तस्वीरों को मोबाइल में ले लिया था, जिसके बाद वह लगातार तस्वीर वायरल कर देने की धमकी देते हुए उसके साथ कुकृत्य करता था। नाबालिग छात्रा दो माह की प्रेग्नेंट है।

पंचायती कर सुलह करना चाहते थे ग्रामीण

नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म के मामले की जानकारी पीड़िता के पिता ने गांव के मुखिया और सरपंच को दी। इसके बाद मामले को पंचायत में सुलझाने की कवायद शुरू हो गई। मामले को लेकर सरपंच और मुखिया द्वारा पंचायती भी बुलाई गई, लेकिन मुखिया सरपंच की ओर से बुलाए गई पंचायत में आरोपी प्रिंसिपल नहीं पहुंचा और लगातार टालमटोल करता रहा। इसके बाद पंचों की ओर से पीड़ित परिवार को पुलिस की मदद लेने का निर्देश दिया गया और फिर मामले को महिला थाना में केस दर्ज किया गया। महिला थाना पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी प्रधानाचार्य रोशन जमीर को गिरफ्तार किया गया।

पंचायत करने वालों पर भी होगी कार्रवाई

मामले को लेकर सदर SDPO पुष्कर कुमार ने बताया कि मामले की जांच कराई गई है। मामला सही पाए जाने पर आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया गया है। प्रिंसिपल ने ग्रामीणों और पीड़िता के बयान के आधार पर नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म होने की बात को स्वीकार किया है। उसने यह भी स्वीकार किया कि गांव वालों ने मामला का सुलह कराने की भी कोशिश की थी। ऐसे संज्ञेय अपराध में पंचायत की कोशिश गलत है। सदर SDPO ने बताया कि पंचायती करने की कोशिश करने वालों की भी जांच की जाएगी और उसमें यदि कोई दोषी पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ भी विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here