रिमांड पर पूछताछ के बाद इमरान और नासिर को दिल्ली से लेकर पटना पहुंची NIA,पटना के कोर्ट में आज होगी दोनों भाइयों की पेशी

0
104
Share

दरभंगा पार्सल ब्लास्ट मामले में हैदराबाद से पकड़े गए दोनों भाई मो. इमरान मलिक और मो. नासिर मलिक को लेकर NIA की टीम गुरुवार की शाम दिल्ली से पटना पहुंच गई है। कड़ी सुरक्षा के बीच दोनों को पटना एयरपोर्ट से ATS मुख्यालय लाया गया। इन्हें यहीं रखा गया है। पूरी रात इनकी ATS मुख्यालय में ही कटेगी।

शुक्रवार को इन्हें पटना के NIA के स्पेशल कोर्ट में पेश किया जाएगा। अगर रिमांड की डिमांड नहीं की गई तो दोनों भाइयों को कोर्ट से जेल भेज दिया जाएगा। संभावना है कि NIA की तरफ से वकील जेल में बंद मो. कफील और मो. सलीम के रिमांड की डिमांड कोर्ट से कर सकते हैं।

दो बार रिमांड पर लिया गया

इस मामले में लगातार दो बार इमरान और नासिर को रिमांड पर लिया जा चुका है। कफील को एक बार NIA रिमांड पर लेकर पूछताछ कर चुकी है। रिमांड मिलने के बाद तीनों को दिल्ली ले जाया गया था। दरभंगा ब्लास्ट मामले में वहीं पर तीनों से पूछताछ की गई। जेल में बंद सलीम को जब गिरफ्तार किया गया था, उस दौरान वो बीमार हो गया था। इस वजह से NIA की तरफ से उसके रिमांड की डिमांड नहीं की गई थी। अब संभावना है कि शुक्रवार को उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ करने की मांग की जा सकती है।

सबूतों के आधार पर अब आगे बढ़ेगी जांच
दरभंगा ब्लास्ट के तार पहले हैदराबाद और बाद में उत्तर प्रदेश के कैराना से जुड़े। सलीम और कफील को कैराना से ही पकड़ा गया था। सूत्र बतातें हैं कि इस मामले में अब तक NIA 17 लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है। सभी के बयानों की कॉपी को कोर्ट में जमा किया जाएगा। अब इस मामले में आगे की जांच बरामद सबूत, दर्ज किए गए लोगों के बयान और गिरफ्तार किए गए आतंकियों की निशानदेही पर आगे बढ़ेगी। NIA की टीम ऐसी कोई गलती नहीं करना चाहती है, जिसका एडवांटेज गिरफ्तार आरोपियों को मिले। इसलिए बहुत सोच-समझकर NIA की टीम अपने कदम आगे बढ़ा रही है।

खंगाला जा रहा है पंजाब कनेक्शन
बिहार रेल पुलिस मुख्यालय के तरफ से जारी उस अलर्ट को भी अब NIA की टीम दरभंगा ब्लास्ट और इसमें पकड़े गए आरोपियों से जोड़ कर देख रही है। ये पता किया जा रहा है कि क्या इनका कोई कनेक्शन पंजाब से है? क्योंकि, पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI ने पंजाब में ही अपने स्लीपर सेल के हैंडलर को बिहार-यूपी जाने वाली ट्रेन में टाइम बम लगाने और उसमें सवार मजदूरों को निशाना बनाने को कहा था। अब इस मामले की पड़ताल भी शुरू कर दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here