पटना : ट्रेन का टिकट मांगने पर डिप्टी सीआईटी को जमकर पीटा

Share

पटना. ट्रेन में टिकट मांगने पर आरपीएफ के एक जवान ने डिप्टी सीआईटी को काॅलर पकड़ कर प्लेटफाॅर्म उतार लिया अाैर पटक कर लात-घूंसे से पीटने लगा। पिटाई करने के बाद डिप्टी सीआईटी को आरपीएफ पोस्ट में ले गया। घटना दानापुर स्टेशन पर सोमवार को हुई। इस संबंध में पटना जंक्शन पर पदस्थापित डिप्टी सीआईटी पंकज कुमार ने दानापुर रेल थाने में आरपीएफ जवान समरजीत सिंह और एक अन्य के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

पंकज के मुतबिक, आरपीएफ पोस्ट पर ले जाने के बाद वहां मौजूद आरपीएफ कर्मी भी उसपर टूट पड़े और एक कमरे में बंद कर दिया। मारपीट करने के साथ ही कागजात, पैसे और मोबाइल फोन छीन लिया। इस दौरान पहुंचे रेलकर्मियों द्वारा सूचना दिए जाने के बाद वरीय अधिकारियों की पहल पर उसे छोड़ा गया।

वहीं हंगामा बढ़ता देख आरपीएफ जवान के साथ रहा उसका साथी भाग निकला। इस संबंध में मुख्यालय रेल डीएसपी पूनम केसरी ने बताया कि पीड़ित डिप्टी सीआईटी की शिकायत पर जांच की जा रही है। आरोपी आरपीएफ जवान ने भी बदसलूकी की शिकायत की है। उधर जानकारी मिलने पर मामले को रेलवे के वरीय अधिकारियों ने गंभीरता से लिया है। डीआरएम के निर्देश पर वरीय मंडल वणिज्य प्रबंधक और आरपीएफ के वरीय कमांडेंट देर शाम तक मामले की जांच में जुटे थे।

बिना टिकट साथी के साथ एसी बोगी में कर रहा था यात्रा

बताया जाता है कि डिप्टी सीआईटी को पीटने का आरोपी जवान अपने एक साथी के साथ यात्रा कर रहा था। वह आरा स्टेशन पर 12392 डाउन श्रमजीवी एक्सप्रेस की एसी बोगी एचए 1 में सवार हुआ था। वहां बैठने को लेकर यात्रियों के साथ विवाद हुआ। इसकी जानकारी मिलने पर ट्रेन में ड्यूटी पर तैनात डिप्टी सीआईटी ने टिकट दिखाने को कहा तो खुद को आरपीएफ का जवान बता डिप्टी सीआईटी से भी उलझ गया।

कोच खाली करने को कहने पर आरोपी जवान ने रेलवे द्वारा जारी किया गया पास दिखाया, जो द्वितीय श्रेणी का था और उसकी वैधता करीब एक साल पहले 15 अप्रैल 2018 को ही समाप्त हो चुकी थी। पुनः कोच से निकल जाने को कहने पर आरपीएफ जवान और उसके साथी ने डिप्टी सीआईटी को दानापुर पहुंचने पर देख लेने की धमकी दी। इसकी सूचना डिप्टी सीआईटी ने फोन कर कंट्रोल रूम को भी दी।

मुगलसराय में आराेपी जवान है पदस्थापित

मारपीट का आरोपी आरपीएफ जवान मुगलसराय में पदस्थापित है। प्रतिनियुक्ति पर दानापुर आरपीएफ पोस्ट पर तैनात है। इस घटना को आरपीएफ अधिकारीयों ने गंभीरता से लिया है। सूत्रों के मुताबिक प्रतिनियुक्ति रद्द करते हुए आरोपी जवान के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है।

वाणिज्य विभाग के कर्मियों ने खोला मोर्चा

घटना के बाद वाणिज्य विभाग के टिकट चेकिंग स्टाफ में जबरस्त आक्रोश व्याप्त है। कर्मियों ने मोर्चा खोलते हुए आरोपी आरपीएफ जवान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। घटना के बारे में ट्वीटर के माध्यम से रेलमंत्री, पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक सहित रेलवे के अन्य वरीय अधिकारियों को सूचित किया गया है। उधर रेलवे यूनियन के पदाधिकारियों ने कार्रवाई नहीं होने पर अांदोलन की चेतावनी दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *