15 साल बाद नीतीश की पार्टी को केंद्रीय मंत्रिमंडल में मिलेगी जगह

Share
पटना. 15 साल बाद जदयू को केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी। इससे पहले 1998 से 2004 तक अटल सरकार में जदयू की तरफ से 3 सांसदों को मंत्रिमंडल में जगह मिली थी। नीतीश कुमार को रेल मंत्रालय, जॉर्ज फर्नांडिस को रक्षा और शरद यादव को नागरिक उड्डयन मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई थी।

इस बार मोदी मंत्रिमंडल में जदयू के जिन नेताओं के शामिल होने की चर्चा चल रही है, उसमें सबसे आगे आरसीपी सिंह का नाम है। आरसीपी राज्यसभा सांसद हैं और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफी करीबी माने जाते हैं। पार्टी में वे राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) के पद पर हैं और राज्यसभा में जदयू के नेता हैं। सिंह बिहार में नीतीश कुमार के प्रधान सचिव रह चुके हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे आरसीपी सिंह ने 2010 में वीआरएस लेकर राजनीति में कदम रखा था।

दूसरे नंबर पर ललन सिंह का नाम चल रहा है। भूमिहार जाति से आने वाले राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बेहद करीबी हैं। इस बार इन्होंने मुंगेर से बाहुबली नेता अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी को हराया था। बिहार सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं।

2014 में मोदी लहर के बीच नीतीश का सम्मान बचाने वाले संतोष कुशवाहा के भी मोदी कैबिनेट में शामिल होने की चर्चा है। कुशवाहा को आगे कर नीतीश कुमार रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा की काट मजबूत करना चाहते हैं। हालांकि मोदी मंत्रिमंडल में जदयू के दो सांसदों को शामिल करने की चर्चा है। ऐसे में संतोष के मंत्रिमंडल में शामिल होने की संभावना कम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *