मुजफ्फरपुर : मस्तिष्क ज्वर से 5 और बच्चों की मौत, अब तक 50 से ज्यादा मासूमों की जान ले चुका है यह बीमारी

Share

-एसकेएमसीएच में पानी पर प्रतिदिन मरीजों का सौ रुपए खर्च

मुजफ्फरपुर. उमस भरी गर्मी में हुई कमी के बावजूद मंगलवार को एसकेएमसीएच व केजरीवाल अस्पताल में मस्तिष्क ज्वर (एईएस) से पीड़ित 23 बच्चे भर्ती किए गए। वहीं, सोमवार को एसकेएमसीएच में भर्ती 44 बच्चों में से 4 ने मंगलवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। जबकि, सीतामढ़ी के एक बच्चे की मौत एसकेएमसीएच लाने के दौरान रास्ते में ही हो गई।

इस तरह मंगलवार को पांच बच्चे की मौत हुई। सोमवार को एसकेएमसीएच में 19 व केजरीवाल में एक बच्चे की मौत हो गई थी। एसकेएमसीएच व केजरीवाल में सुबह आठ बजे से 10 बजे तक एईएस के मरीज आए। सुबह के बाद दिन भर मरीज के आने का सिलसिला थमा रहा। डॉक्टरों का कहना है कि गर्मी और उमस से राहत मिलने के बाद बीमारी का भी जोर कम हुआ है। हालांकि प्रशासन ने मंगलवार को तीन की मौत व 10 के भर्ती होने की बात कही है। एईएस पीड़ित बच्चों को देखने पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार, सांसद अजय निषाद और वीणा देवी समेत कई राजनेता एसकेएमसीएच पहुंचे।

बीमारी के प्रकोप के बाद भी चमकी बुखार पीड़ित बच्चों के परिजनों को बच्चे के शरीर को ठंडे पानी से पोंछने के लिए बाहर से पानी खरीदना पड़ रहा है। परिजनों को तीन मंजिले वार्ड से दूर जा कर पानी लाना पड़ रहा है। दिनभर में एक बच्चे के परिजन को 5-6 बोतल से अधिक पानी खरीदना पड़ रहा है। इसके लिए सौ-सवा सौ रुपए खर्च करने पड़ते हैं। क्योंकि, एसकेएमसीएच में ठंडे पानी की व्यवस्था नहीं है।

आज एसकेएमसीएच आएगी केंद्रीय टीम, सात विशेषज्ञ डॉक्टर शामिल
मस्तिष्क ज्वर के बढ़ते प्रकोप का जायजा लेने केन्द्रीय टीम बुधवार को एसकेएमसीएच आएगी। बताया जा रहा है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की पहल पर विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम मुजफ्फरपुर भेजी गई है। इस टीम में अधिकारी सहित सात विशेषज्ञ डॉक्टर शामिल हैं। बुधवार को केन्द्रीय टीम में शामिल डॉक्टर बीमार बच्चों एवं उसके परिजनों से मिलेंगे। केन्द्रीय टीम यहां इलाज कर रहे डॉक्टरों से भी बात कर आगे की रणनीति तय करेगी।

देर रात बच्चों का हाल जानने पहुंचे डीएम
मंगलवार की देर रात डीएम आलोक रंजन घोष एसकेएमसीएच पहुंचे। डीएम ने इलाज की व्यवस्था सुधारने का निर्देश अधीक्षक को दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि अब तक एसकेएमसीएच में 101 बच्चे भर्ती हुए। 41 की मौत हुई। 50 इलाजरत हैं। इसमें 8 की हालत गंभीर है। केजरीवाल में 45 बच्चे पहुंचे हैं। 11 एसकेएमसीएच रेफर हुआ। वह केजरीवाल अस्पताल भी गए।

इधर, कांटी में डायरिया व बुखार से 2 बच्चों की मौत, एक बच्चा भर्ती
साइन स्थित मांझी टोला में सोमवार की देर रात डायरिया व बुखार से पीड़ित 2 बच्चों की मौत हो गई, जबकि एक बच्चा पीएचसी में भर्ती है। 4 घंटे के अंतराल में दोनों की मौत हो गई। मृतक की पहचान राजेंद्र मांझी की बेटी संध्या कुमारी (8) व शत्रुघ्न मांझी की पुत्री चंदा कुमारी (12) के रूप में हुई। लालटून मांझी का बेटा राजू (8) पीएचसी में भर्ती है। पीएचसी के चिकित्सा पदाधिकारी यूपी चौधरी ने एईएस के लक्षण से साफ इनकार किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *