पटना : पीएचईडी मंत्री ने कहा-2020 तक राज्य में हर घर नल का जल पहुंच जाएगा

Share

पटना. पीएचईडी मंत्री डॉ. विनोद नारायण झा ने कहा कि विकसित बिहार के लिए सात निश्चय के तहत हर घ्रर नल का जल 2020 तक पहुंच जाएगा। सभी परिवारों को पीने के पानी उनके घर में पाईप जलापूर्ति योजनाओं द्वारा टैप के माध्यम से उपलब्ध कराया जा रहा है। इस योजना की जवाबदेही पीएचईडी के साथ ही ग्राम पंचायतों को दी गई है। ग्राम पंचायत वार्ड क्रियान्वयन व प्रबंधन समिति के माध्यम से इस योजना का संचालन व रखरखाव व अनुश्रवण करती है। मंगलवार को वे दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बिहार में 8386 ग्राम पंचायतें और 1,14,691 वार्ड हैं। ग्राम पंचायतों द्वारा 58612 वार्डों में हर घर नल का जल का कार्य कराया जा रहा है। पीएचईडी द्वारा 56079 वार्डौं में कार्य प्रारंभ किया गया है। इसमें 30493 वार्ड में पानी की गुणवत्ता प्रभावित है। 5085 वार्डों में आर्सेनिक अनुमान से अधिक मात्रा में पायी गई। 3812 वार्डों में फ्लोराइड गुणवत्ता से और 21596 वार्ड में आयरन की मात्रा अनुमान सीमा से अधिक है।

फ्लोराइड प्रभावित 11जिलों में रोहतास, कैमूर, औरंगाबाद, गया, नवादा, नालंदा, मुंगेर, शेखपुरा, जमुई, बांका व भागलपुर शामिल हैं। आर्सेनिक प्रभावित 13 जिलों में बक्सर, भोजपुर, पटना, वैशाली, सारण, समस्तीपुर, दरभंगा, भागलपुर, मुंगेर, लखीसराय, बेगूसराय, खगड़िया व कटिहार शामिल हैं। आयरन प्रभावित 9 जिलों में बेगूसराय, खगड़िया, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, कटिहार अररिया, पूर्णिया व किशनगंज शमिल हैं। गुणवत्ता प्रभावित क्षेत्रों के 1046 वार्डों के सभी परिवारों गृह जल संयोजन द्वारा जलापूर्ति प्रारंभ कर दी गई है। 6497 वार्डों में शोधित जलापूर्ति योजना पर काम हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *