जनमत का ख्याल किए बिना देश के लोगों पर थोपा जा रहा है काला कानून, करते रहेंगे विरोध : सैफुल्लाह

Share
नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में तंजीम फलाहे इंसानियत के बैनर तले प्रखंड मुख्यालय गेट पर एक दिवसीय धरना का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता उमर सैफुल्लाह व संचालक प्रो. गौहर सिद्दीकी ने किया। इस दौरान सभी ने केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। साथ ही केन्द्र सरकार से इस कानून को वापस लेने की मांग की गयी। उमर सैफुल्लाह ने कहा कि नरेन्द्र मोदी देश में तानाशाही की तरह व्यवहार कर रहे हैं। बगैर जनमत का ख्याल किये, विपक्षी दलों से राय-विचार किये, अपनी इच्छानुसार कानून लागू किया जा रहा है। कहा कि भारत पर सभी नागरिकों का समान रूप से हक है। देश के लिए सभी धर्म-समाज के लोग कुर्बानी देते आ रहे हैं। पर, नरेन्द्र मोदी सरकार कुछ लोगों को खुश करने में लगी हुई है। देश का जनमत इसके खिलाफ है।

केन्द्र को इस कानून को तत्काल वापस लेना चाहिए। वहीं प्रो. गौहर सिद्दीकी ने कहा कि देश के संविधान को बदलने का प्रयास किया जा रहा है। महात्मा गांधी, बाबा साहब अंबेदकर, मौलाना आजाद जैसे नेताआें के भारत के चरित्र पर प्रहार किया जा रहा है। इसे सफल नहीं होने दिया जायेगा। इस काला कानून के वापस लिये जाने तक इसके खिलाफ आंदोलन किया जायेगा। वहीं एक प्रतिनिधि मंडल ने प्रधानमंत्री के नाम एक मांग पत्र बीडीओ को सौंपा। धरना प्रदर्शन करीब चार घंटा तक किया गया। मौके पर मौजूद सुरेंद्र प्रसाद यादव, फैज अहमद उर्फ तमन्ने, निजामुद्दीन अंसारी, सउद आलम, उपेंद्र सिंह यादव, वीर बहादुर यादव, असेश्वर राय, मौलाना अलाउद्दीन रिजवी, अनवारुल हक रिजवी सहित अन्य लोगो ने अपने अपने विचार रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *