PATNA: –मार्निंग-इवनिंग वाॅक के लिए सड़कों का विकल्प तैयार करना जरूरी– 

0
896
Share

सुरेंद्र किशोर,राजनीति विश्लेषक

पटना जिले के दाना पुर के पास एक रिटायर रेलकर्मी सड़क पर टहलने के लिए निकले थे कि अनियंत्रित टैक्टर ने उन्हें टक्कर मार दी।उनकी मौत हो गयी।यह घटना इसी महीने हुई।
उससे पहले गत सितंबर में मोहाली में दो व्यक्ति मार्निंग वाॅक
के लिए निकले थे।कार की चपेट में आकर अपनी जान गंवा बैठे।
कई साल पहले भागल पुर में एक वाहन ने सड़क के किनारे टहल रहे पूर्व विधान सभा अध्यक्ष प्रो.शिवचंद्र झा को धक्का मार दिया जिस कारण उनकी असामयिक मौत हो गयी।
दरअसल पटना सहित इस देश के अधिकतर शहरों में टहलने की जगह की भारी कमी के कारण लोग बाग सड़कों पर माॅर्निंग और इवनिंग वाॅक करते हैं।

https://youtu.be/FoysqGAAsbg

नतीजतन कई बहुमूल्य जानें चली जाती हैं।सड़कों पर टहलने के खिलाफ अभियान चला कर अनेक बहुमूल्य जानों को बचाया जा सकता है।जहां तक मेरी जानकारी है,अभी तक ऐसा कोई अभियान नहीं चला है।
इस समस्या को लेकर एक से अधिक तरीकों से अभियान चलाने की जरूरत है।
सरकारें संचार माध्यमों के जरिए लोगों को सड़कों पर टहलने से हतोत्साहित करे।
साथ ही शासन बिल्डर्स व डेवलपर्स को यथा संभव खेलने -टहलने के स्थान छोड़ने को बाध्य करे।
अपवादों को छोड़ दें तो अभी तो वे अपनी एक -एक इंच जमीन बेच देते हैं।
वैसे ग्राहकों को लुभाने के लिए डेवलपर्स अपने नक्शे में पार्क से लेकर स्कूल तक के लिए जगहें दिखा देते हैं।
अपार्टमेंट्स के निचले हिस्से में खाली जगह कुछ और छोड़ देने का प्रावधान होता तो कम से कम महिलाओं के टहलने के लिए जगह उपलब्ध होती।
पटना तथा अन्य शहरों में सैकड़ों एकड़ सरकारी जमीन पर दबंगों ने कब्जा जमा लिया गया है।यदि शासन उन्हें उनके कब्जे से निकाल कर उन पर पार्क या अन्य जनोपयोगी संस्थान खड़े करता तो लोगबाग सरकार का गुणगान करते।
पर क्या यह कभी हो पाएगा ?
आम धारणा तो यह है कि जिन दबंगों ने उस जमीन पर दशकों से कब्जा कर रखा है,वे किसी भी सरकार से अधिक ताकतवर लोग हैं।
@ 30 नवंबर, 2018 को प्रभात खबर-बिहार-में प्रकाशित मेरे काॅलम कानोंकान से@

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here