UP की ‘बालिका वधू’ को सिवान पुलिस ने मंडप से बचाया

0
224
Share

उत्तर प्रदेश के देवरिया की नाबालिग को पुलिस ने बाल-विवाह से बचा लिया। सीवान के मैरवा मंदिर में उसकी शादी हो रही थी। पुलिस ने शादी के मंडप से 11 साल की दुल्हन के साथ 15 साल के दूल्हे को हिरासत में ले लिया है। लड़की UP के देवरिया जिले की और नाबालिग थी, जबकि लड़का सीवान के गुठनी थाना का है। शादी करवाने के लिए उनके पेरेंट्स झूठ बोलकर मंडप में ले आए थे। सीवान के मैरवा के एक मंदिर में दोनों परिवारों ने चुपके से शादी कराने की तैयारी की थी। इसकी सूचना पर देवरिया SP श्रीपति मिश्र ने सलेमपुर SDM गुंजन द्विवेदी, जिला प्रोबेशन अधिकारी प्रभात कुमार, बाल सुरक्षा अधिकारी जयप्रकाश तिवारी के साथ पुलिस उपनिरीक्षक सौरभ सिंह को माैके पर भेजा था। इसके बाद पुलिस पता करते-करते मंडप तक पहुंच गई। दूल्हा-दुल्हन के साथ बाराती और परिजनों को भी हिरासत में लिया गया है।

बहाना बनाकर बुलाए थे परिजन

हिरासत में लिए गए दोनों नाबालिगों से जब देवरिया बाल संरक्षण अधिकारी जयप्रकाश तिवारी और काउंसलर अर्चना ने पूछताछ की तो पता चला कि दोनों में से किसी को भी उनकी शादी के बारे में नहीं बताया गया था। नाबालिग दुल्हन ने बताया कि- ‘उससे कहा गया था कि उसके मौसी की दूसरी शादी होनी है। उसमें चलना है, क्योंकि उसके मौसा की मौत कुछ महीने पहले हो गई है’। नाबालिग दुल्हे ने बताया कि उसके परिजनों ने कहा था कि उसके चाचा की शादी के लिए लड़की देखने चलना है।

इस मामले पर जिला प्रोबेशन पदाधिकारी प्रभात कुमार ने बताया कि बाल विवाह की सूचना मिलने पर मैरवा के एक मंदिर में हो रही नाबालिग जोड़े की शादी को रुकवा दिया गया है। सोमवार को दोनों की शादी बहला-फुसलाकर की जा रही थी। बाल विवाह करना या कराना कानूनन अपराध है। जांच के बाद दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here