अपराधी यदि मंदिर में बैठ जाए तो संत नहीं हो जात,छपरा के सांसद ने पप्पू यादव पर साधा निशाना

0
800
Share

विगत कई दिनों से एम्बुलेंस प्रकरण समाचार माध्यमों में चल रहा था। इसकाे लेकर सांसद रूडी ने आरोपों को खारिज करते हुए सवालों के जवाब दिए। वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन में सारण के सांसद राजीव प्रताप रूडी ने पप्पू यादव के संदर्भ में कहा कि मंदिर में बैठा हर अपराधी संत नहीं होता। इसके बाद उन्होंने इंश्योरेंस समाप्त होने, चालक के बीमार होने या छोड़कर चले जाने के कारण सामुदायिक केंद्र पर खड़े एम्बुलेंसों का विवरण दिया और कहा कि इस कारण से खड़े थे। सांसद रूडी ने एम्बुलेंसों की संचालन व्यवस्था का लाइव वीडियो भी दिखाया।

कंट्रोल रूम से जीपीएस से ट्रैकिंग करते हुए सभी एम्बुलेंसों को दिखाया। साथ ही वर्ष 2019 में खरीदे गए सभी एम्बुलेंस अबतक कितने किलोमीटर चले हैं, उसका डाटा भी स्क्रीन पर दिखाया और कहा कि हमारे मित्र ने ये सवाल उठाया था कि इतने सारे एम्बुलेंस कैसे और क्यों चलाये जा रहे है, कहां रखे गए हैं। इसको लेकर उन्होंने लोगों के मन में भ्रम संशय पैदा किया। उन्होंने कहा कि मुझे ये नहीं पता था कि किस हैसियत से पूर्व सांसद पूरे बिहार के स्वास्थ्य के इंस्पेक्टर बन गए हैं और उनको अधिकार प्राप्त हुआ है कि वो जगह-जगह निरीक्षण करके वो व्हिसल ब्लोअर का काम करें।

2014 में चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र में पप्पू पर थे 32 मामले
सांसद रूडी ने पप्पू यादव द्वारा वर्ष 2014 में चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्र को भी दिखाया। जिसमें 32 आपराधिक मामलों का उल्लेख था। इसके साथ ही सांसद ने इसके अतिरिक्त भी कुल 17 अन्य आपराधिक मामलों की जानकारी दी जिसे इन्होंने चुनाव आयोग को दिए अपने शपथ पत्र में छिपाया है। सांसद रुडी यह कहते हुए कि आज की पीढ़ी जो इनके संदर्भ में नहीं जानती उनके लिए पुरूलिया कांड के मुख्य आरोपी किम डेवी का एक वीडियो भी दिखाया जिसमें उसने उसे भगाने वाले सांसद का नाम लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here