आज जारी होगी अधिसूचना, जानिए पंचायतों में क्या होगा इसका असर, कौन से काम पर लग जाएगी रोक

0
622
Share

राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा पंचायत चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी होने के साथ ही आज से प्रदेश में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो जाएगी। आचार संहिता का पालन पंचायत चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों, उनके समर्थकों, कार्यकर्ताओं के अलावा सत्ताधारी दल के प्रतिनिधियों को भी करना होगा।

क्या होती है आचार संहिता?

आचार संहिता लगते ही चुनाव प्रक्रिया से संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों के स्थानांतरण और पदोन्नति पर रोक लग जाएगी। पंचायतों से संबंधित नए विकास कार्यों, योजनाओं की शुरुआत भी इस दौरान नहीं हो सकती है। हालांकि चुनावी घोषणा से पहले जितने तबादले, नए कार्य के फैसले ले लिए जाते हैं, उन पर इसका असर नहीं पड़ता है। आचार संहिता इसलिए लगाई जाती है कि कोई व्यक्ति धन, बल के आधार पर वोटरों को प्रभावित न कर सके ।

पंचायतीराज संस्थाओं द्वारा क्रियान्वित योजनाएं होंगी प्रभावित

अधिसूचना जारी होने के साथ ही पंचायतीराज संस्थाओं द्वारा क्रियान्वित योजनाएं प्रभावित होंगी। मुख्य रूप से मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना, मुख्यमंत्री ग्रामीण गली-नाली पक्कीकरण योजना, 15वें वित्त आयोग से मिले फंड से संचालित योजनाएं और ग्रामीण क्षेत्र में सोलर स्ट्रीट लाइट योजना प्रभावी होगी।

इन योजनाएं से जुड़े जो काम पहले से स्वीकृत हैं और जिनका काम शुरू हो गया है, उन पर रोक नहीं है। नए सिरे से जिन कामों की स्वीकृति लेनी है जिनका काम अभी शुरू नही हुआ है। उन योजनाओं का काम शुरू करने पर पूरी तरह से रोक होगी।

इन प्रक्रियाओं पर पूरी तरह से लग जाएगी रोक

  • बाल विकास परियोजना के तहत आंगनबाड़ी केंद्रों की सेविका और सहायिका का चयन।
  • मंत्री, सांसद, विधायक और विधान पार्षदों द्वारा नई योजनाओं की स्वीकृति और उनके कार्यान्वयन पर पाबंदी रहेगी।
  • मंत्री, सांसद, विधायक और विधान पार्षदों द्वारा स्वेच्छानुदान राशि, जनसंपर्क निधि से कोई अनुदान स्वीकृत नहीं किया जाएगा।
  • मंत्रियों, संसद सदस्यों या राज्य विधान मंडल के सदस्यों द्वारा सहायता या अनुदान का आश्वासन नहीं दे सकते हैं।
  • योजना का शिलान्यास या उद्घाटन भी नहीं किया जा सकता है।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना जैसी योजनाएं जिसमें पंचायतीराज संस्था के प्रतिनिधियों की सीधे या परोक्ष भूमिका हो, उनका भी प्रारंभ या क्रियान्वयन नहीं किया जाएगा।

क्या होगा आचार संहिता उल्लंघन करने पर
आचार संहिता उल्लंघन के दायरे में आने वाले कामों को करने पर उम्मीदवार को चुनाव लड़ने से रोका जा सकता है। जरूरी होने पर आपराधिक मुक़दमा भी दर्ज कराया जा सकता है। आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों में जेल भेजे जाने का प्रावधान भी है।

खबरें और भी हैं…

https://youtube.com/c/KhabarParihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here