चार बार के MLA ने दर्जनों बार की अनुशासनहीनता,लेकिन पार्टी ने एक बार भी कार्रवाई नहीं की

0
306
Share

JDU अपने विधायकों को लेकर पूरी तरह से डिफेंसिव है। कल तक बिहार सरकार के मंत्री गोपाल मंडल के बचाव में खड़े थे। अब नीतीश कुमार भी उनको लेकर डिफेंसिव हो गए हैं। शनिवार को CM नीतीश कुमार से जब पटना में पूछा गया कि गोपाल मंडल पर क्या कार्रवाई हो रही है, तो उन्होंने “जांच चल रही है’ कहते हुए कन्नी काट ली।

इससे पहले शुक्रवार को जब मंत्री अशोक चौधरी से यही सवाल पूछा गया था तो वो भी विधायक के बचाव की मुद्रा में थे। उन्होंने कहा था- “किसी ने लिखित शिकायत नहीं की है।’ जबकि, पीड़ित प्रह्लाद पासवान ने दिल्ली रेलवे स्टेशन पर इसकी शिकायत लिखित की थी। प्रह्लाद ने विधायक पर छिनैती और गाली-गलौज का भी आरोप लगाया था। अब सवाल उठ रहा है कि आखिर JDU अपने विधायकों को बचा क्यों रही है। पढ़िए…

विधानसभा में JDU विधायकों की कम संख्या मंडल के लिए वरदान

विधानसभा चुनाव 2020 में JDU मात्र 43 सीट ही जीत पाई थी। सत्ता में रहने के बावजूद तीसरे नम्बर की पार्टी बन गई थी। यही कारण है कि पार्टी विधानसभा के अंदर लगातार अपनी ताकत को बढ़ाने की फिराक में है। ऐसे में JDU ने दो-तीन विधायकों को दूसरे पार्टियों से तोड़ा भी, लेकिन बहुत ताकतवर नहीं बन पाए। इसके बाद JDU के दो विधायकों का निधन हो गया। फिर से संख्या कम हो गई। ऐसे हालात में यदि JDU अपने ऐसे अनुशासनहीन विधायक को बर्खास्त या निलंबित करता है तो और संख्या घट जाएगी।

भागलपुर इलाके की राजनीति के लिए उनकी जाति महत्वपूर्ण

गोपाल मंडल गंगोता जाति से आते हैं। भागलपुर लोकसभा में गंगोता जाति के वोट 9.26 फीसदी हैं। यहां की राजनीति गंगोता जाति के वोटर तय करते हैं। उसी जाति से आने वाले मंडल बाहुबली भी हैं। वह अपने बाहुबल का खुलेआम प्रदर्शन कर चुके हैं। गोली मारने से लेकर राजनीति करने तक के लिए बाहुबल को जरूरी बता चुके हैं। JDU उनके हर बयान से वाकिफ है, लेकिन उस क्षेत्र के लिए उनकी जाति जरूरी हैं।

काफी ना-नुकुर के बाद बोले JDU प्रवक्ता

JDU इस मामले पर पूरी तरह से सुरक्षात्मक रवैया अपना रही है। काफी ना-नुकुर के बाद शनिवार को प्रवक्ता अभिषेक झा ने कहा- “पार्टी के संज्ञान में गोपाल मंडल की सारी बातें हैं। इस पर जांच चल रही है। प्रदेश स्तर पर तय किया जाएगा कि क्या कार्रवाई करनी है।

‘खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here