जिसकी शादी होने वाली थी वह लड़का रो-रोकर बेहोश होता रहा, सामने निकलती रहीं दादा- दादी, चाचा-चाची, फूआ, मौसी की लाशें

0
1107
Share

पांच दिन बाद घर में शहनाई गूंजने वाली थी। तिलक समारोह की खुशियां घर की देहरी पर कदम रखने ही वाली थी कि रास्ते में भयानक मौत के मंजर ने शकुन को अपशकुन में बदल दिया। दानापुर पीपा पुल से गुजर रही जीप अनियंत्रित होकर गंगा की लहरों में समा गई। ड्राइवर सहित तीन ने तो कूद कर जान बचा ली, लेकिन बाकी के 9 लोग लाश की शक्ल में बाहर निकले। जिस लड़के की शादी होने वाली थी, वह अभागा नदी किनारे पीपा पुल के नीचे रो-रोकर बेहोश हो रहा था। उसकी आंखों के सामने एक-एक कर दादा- दादी, चाचा-चाची, फूआ, मौसी सहित रिश्तेदारों के तीन बच्चों की लाशें निकल रही थीं। भास्कर की आंखों ने वहां जो दर्द का मंजर देखा, उसे आप भी देखिए। कैसे 25 फीट नीचे गाड़ी के अंदर घुट-घुट कर लोगों की जान गई होगी, यह सोच कर ही कलेजा फट पड़ेगा।

नदी से निकलती लाशों का दृश्य देखकर एक महिला बेहोश हो गई।

नदी से निकलती लाशों का दृश्य देखकर एक महिला बेहोश हो गई।

शुक्र का दिन नाशुक्र हो गया

ओह ! शुक्र का दिन। मदन सिंह के परिवार में उनके बेटे राकेश का तिलक 21 तारीख को अकीलपुर वाले पुस्तैनी मकान में हुआ। दियारा से लोग घर से शुक्र को दानापुर वाले घर चित्रगुप्त नगर तकिया पर रोड नंबर 9 की तरफ लौट रहे थे। दानापुर पीपापुल की ढाल से सवारी गाड़ी नीचे उतरी और रैलिंग तोड़ती हुई गंगा में समा गई। गाड़ी के ऊपर बैठे लड़के के मामा सुजीत कुमार सिंह ने गाड़ी को गंगा में जाते देखा तो कूद कर जान बचाई। एक अन्य फूफेरे भाई, जिसे लोग डॉक्टर बोलते हैं, वह भी ऊपर से पुल पर कूद गया। ड्राइवर मुकेश भी कूद गया, लेकिन गाड़ी के अंदर बैठे 9 लोग गंगा में समा गए। सुबह लगभग साढ़े 7 बजे की घटना थी। 10.45 बजे गंगा से पहली डेड बॉडी NDRF और SDRF के जवानों ने निकाली। इसके बाद एक और डेड बॉडी निकालने का सिलसिला शुरू हुआ। बाकी सभी की डेड बॉडी गाड़ी निकलने पर ही बाहर आ सकी।

चीख-पुकार के बीच शासन-प्रशासन पर ऐसा गुस्सा कभी नहीं देखा

पूरा दियारा पुल के पास उमड़ पड़ा था। ज्यादातर लोगों को कोरोना का कोई भय नहीं। सभी के चेहरे पर से पानी उड़ा हुआ था। भास्कर ने जिस चेहरे पर माइक लगाया, शासन- प्रशासन पर गुस्सा भड़का। परिजनों ने तो गालियों से बात की। दानापुर विधायक रीत लाल यादव घटना के बाद सूचना मिलने पर पहुंच चुके थे। सांसद रामकृपाल यादव भी मौजूद रहे। 11.16 बजे JCB में फंसा कर गाड़ी को गंगा से बाहर निकाला गया। उसके बाद का दृश्य देखकर तो लोगों की छाती फटनी लगी। एक के बाद एक लाश को गाड़ी से खींच-खींच कर बाहर निकाला गया। 10 साल के आशीष, 14 साल की मधु और 12 साल के शिव कुमार की डेड बॉडी ने तो अंदर से हिला दिया। फफक-फफक कर रोने की आवाज गूंज रही थी। बाकी लोगों में 60 साल के रामाकांत सिंह, 50 साल के अरविंद सिंह, 55 साल की गीता देवी, 65 साल की अनुरागी देवी सिंह, 50 साल की गायत्री देवी, 50 साल की सरोज देवी को भी निकाला गया। लाशों की कतार लग गई।

चश्मचदीद ने बताया- ड्राइवर पिए हुए था

भास्कर ने गाड़ी के ऊपर बैठे लड़के के मामा सुजीत कुमार सिंह से बात की। उन्होंने बताया कि सभी अकीलपुर से आ रहे थे। गाड़ी जब घर से चली तो ड्राइवर रातभर नहीं सोने की वजह से या पिए हुए होने की वजह से गाड़ी ठीक से नहीं चला पा रहा था। गाड़ी पुल के ढलाव पर आते ही अनबैलेंस हो गई। देखते-देखते पुल की रैलिंग तोड़ती हुई गंगा में चली गई। उसने बताया कि गाड़ी के ऊपर बैठे दो लोगों ने कूद कर जान बचाई। इसमें एक वे भी थे। ड्राइवर भी कूद कर बच गया। NDRF के अफसर पविंदर सिंह अपने जवानों के साथ लगे रहे। उन्होंने बताया कि 9 लोगों की डेड बॉडी निकाली गई है।

गाड़ी निकाली गई तो उसकी स्टेयरिंग खुली हुई मिली

गाड़ी गंगा से निकाली जाने के बाद भास्कर ने उसकी स्थिति देखी। पास में खड़े एक अन्य ड्राइवर शोभनाथ कुमार ने बताया कि गाड़ी की स्टेयरिंग खुली हुई है। यह संभव है कि जर्क के साथ ढ़लान से उतरने पर यह खुल गई हो। खुलने के बाद तय नहीं है कि चक्का किधर जाएगा। स्टेयरिंग खुल जाने के बाद गाड़ी गंगा में चली गई। जहां ड्राइवर बैठता है, वह दरवाजा खुला हुआ था और दूसरी तरफ का दरवाजा बंद था। गाड़ी निकली तो उसमें प्रेशर कूकर, बिजली आयरन सहित तिलक के सामान बिखरे पड़े थे।

लड़का और उसके पिता बाइक से चले थे, इसलिए बच गए

जिस लड़के राकेश कुमार का तिलक 21 अप्रैल को हुआ और शादी 26 को निर्धारित है, उसकी हालत खराब थी। उसी के पास उसके पिता मदन सिंह बैठे हुए थे। उन्होंने बताया कि लड़के की शादी बाढ़ में तय हुई है। लड़का और बाकी हमलोगों ने तय किया था कि हमलोग बाइक से जाएंगे। लड़के के दादा- दादी, चाचा-चाची, फूआ, मौसी सहित रिश्तेदारों के 3 बच्चे गाड़ी से जा रहे थे, जो अब दुनिया में नहीं रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here