पटना : बेउर जेल के कैदियों ने यूट्यूब से सीखा मास्क बनाना, अबतक 10 हजार से अधिक बना चुके

0
1217
Share

पटना. (शशि सागर) कोरोना के संक्रमण को रोकने में बेउर जेल के कैदी भी अपना योगदान दे रहे हैं। वे फेस मास्क बना रहे हैं। इनका बनाया मास्क विभिन्न जेलों में वितरित भी किया गया है। करीब 20 बंदियों को मास्क बनाने की ट्रेनिंग दी गई है। उन्हें पहले मास्क की तस्वीर दिखाई गई। इसके बाद अधिकारियों ने इन्हें यूट्यूब से बनाने का तरीका भी दिखाया।

इनमें से कुछ बंदी पहले से ही सिलाई-कढ़ाई का काम जानते थे, जिससे उन्हें परेशानी नहीं हुई। अब वे दूसरे बंदियों को भी मास्क बनाना सिखा रहे हैं। मास्क बनाने के लिए जेल प्रशासन सुविधा उपलब्ध कराता है। जेल अधीक्षक जवाहरलाल प्रभाकर ने कहा कि लॉकडाउन के बाद से ही ये बंदी मास्क बना रहे हैं। थोड़ा बताना पड़ा लेकिन अब ये दूसराें को भी बताने की स्थिति में हैं।

8 जेलाें में की गई आपूर्ति
जेल अधीक्षक कहते हैं-लॉकडाउन के कुछ ही दिन बाद से कैदी खुद मास्क बनाने लगे। पहले बेउर जेल के कैदियों के बीच इसकी आपूर्ति की गई, फिर अन्य जगहों पर भेजा गया। अब तक दस हजार से अधिक मास्क बना चुके हैं। यहां के कैदियों का बना मास्क पहले डिस्ट्रिक्ट जेल हाजीपुर, बिहारशरीफ और फुलवारीशरीफ भेजा गया। फिर सब जेल बाढ़, पटना सिटी, दानापुर, हिलसा और मसौढ़ी के कैदियों को भी उपलब्ध कराया गया।
ई-मुलाकात के जरिए मिलने लगे परिजन
अधीक्षक ने कहा कि जेल में कैदियों के लिए मास्क के साथ-साथ सेनेटाइजर की भी व्यवस्था की गई है। सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन कराया जा रहा है। अब कैदी अपने परिजनों से ऑनलाइन ही मुलाकात कर रहे हैं। वेबसाइट www.eprisons.nic.in के माध्यम से परिजन वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए मिल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here