भोजपुर में पिंजरे में कैद कराकर नर्तकियों को नचाया, लॉकडाउन में सड़क पर खूब हुआ हुड़दंग

0
454
Share

नर्तकियों को स्टेज, ट्रॉली या बार में डांस करते आपने देखा होगा, लेकिन पिंजड़े के अंदर बंद करके नचवाना कला और कलाकार दोनों का अपमान है। यह तस्वीर उस बिहार की है, जिसने महिलाओं को 50 का आरक्षण देकर देशभर में महिला सशक्तीकरण की मिसाल पेश की। मामला बिहार के भोजपुर जिला अंतर्गत कोइलवर प्रखंड का है। यहां एक शादी समारोह के दौरान बार बालाओं को पिंजरे के अंदर बंद कर डांस करवाया गया। रातभर उसमें बंद बार बालाएं डांस करती रहीं और ठेले के पीछे-पीछे हुलड़बाजी होती रही।

BDO ने कहा- जांच कर होगी कार्रवाई

भोजपुर के कोइलवर थाना क्षेत्र के कोइलवर चौक वार्ड नं 10 में मोहम्मद नसीम के घर भागलपुर से बारात आई थी। इस दौरान कोरोना के नियमों की तो धज्जियां उड़ाई ही गई। साथ ही जमकर अश्लीलता भी परोसी गई। एक पिंजरे के जैसा स्टेज बनाकर उसके अंदर बार बालाओं को रात भर डांस करवाया गया। इस मामले में BDO बीबी पाठक ने बताया कि सोशल मीडिया के माध्यम से इस मामले की जानकारी मिली है। थाना से बात करके इस पर जांच शुरू की जाएगी। जांच सही साबित होने पर कार्रवाई की जाएगी।

लॉकडाउन में डांसरों के सामने भूखमरी की नौबत

कोइलवर गांव के संजय सोलंकी ने बताया कि बार बालाओं को एक पिंजरे में कैद करके डांस करवाना अमानवीय है। बताया कि पिंजरे को एक बड़े ताला से लॉक कर दिया गया था और उसके अंदर युवतियां डांस कर रही थीं। जगह इतनी कम थी कि कोई थक कर बैठ भी नहीं सकती थी। स्थानीय डांसरों का कहना है कि अभी लॉकडाउन के दौरान कोई काम नहीं रह गया है। इस समय हम लोगों को खाने की भी दिक्कत हो गई है। एक दिन का 15 सौ रुपया मिलता था, लेकिन लॉकडाउन की वजह से काम बंद हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here