मुख्यमंत्री के जनता दरबार मे चोरी,महिला के गले से काटा सोने का जितिया

0
767
Share

CM के जनता दरबार में फरियाद लगाने पहुंची महिला का जितिया दरबार में ही चोरी गई। खास बात है कि चोरी का आरोप किसी और पर नहीं, बल्कि उन्हीं सुरक्षाकर्मियों पर लगा है, जिनके जिम्मे दरबार की सुरक्षा होती है। जब यह मामला मुख्यमंत्री के पास पहुंचा तो नीतीश कुमार के साथ-साथ वहां मौजूद तमाम अफसर भी चौंक गए। उन्होंने इसकी जांच विशेष पदाधिकारी के जिम्मे सौंप दी ।

जनता दरबार में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। आलम यह था कि मुख्यमंत्री के पास जाने से पहले फरियादियों को RT-PCR जांच भी करानी पड़ रही थी। जिला प्रशासन की तरफ से बुक किये गए बसों से लाये गए फरियादियों को दरबार में एंट्री के पहले 3 स्तरों पर सुरक्षा जांच से गुजरना पड़ रहा था। महिलाओं की जांच के लिए विशेष व्यवस्था की गई थी और उन्हें महिला सुरक्षा कर्मी जांच के बाद एंट्री दे रही थी।

इतनी चाक-चौबंद व्यवस्था में भी चोरों ने सेंधमारी कर ली। अपनी फरियाद लेकर पहुंची एक महिला ने तब मुख्यमंत्री को भी सकते में डाल दिया, जब उसने चेकिंग के दौरान अपनी जितिया चोरी होने की बात कही। मुख्यमंत्री से लेकर तमाम अफसर इस मामले से चौंक गए। फरियादी महिला के मुताबिक, महिला सुरक्षाकर्मियों की चेकिंग दौरान ही उसका सोने का जितिया गले से काट लिया गया।

चोरी के मामले से चौंके CM ,अफसरों को कहा – समझिये मामले को

महिला के आरोप के बाद अफसरों को तलब करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इस मामले को समझिए। जितिया चोरी के मामले की जांच DSP और विशेष पदाधिकारी को सौंप दिया गया है। महिला के नौकरी से जुड़े आवेदन को समाज कल्याण विभाग को दिया गया।

नौकरी की मांग लेकर आई थी महिला

चोरी की शिकार हुई महिला समाज कल्याण विभाग में नौकरी की आस लेकर पहुंची थी। महिला का कहना था कि उसे समाज कल्याण विभाग की तरफ से निकाली गई वैकेंसी में इसलिए जॉब नहीं मिल पाई, क्योंकि वो अपने मायके में स्थायी रूप से रह रही थी। पंचायत स्तर पर निकाली गई वैकेंसी में उसे इसलिए योग्य नहीं माना गया, क्योंकि वो गांव की बेटी है। हालांकि मेधा सूची में वो सबसे ऊपर थी।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here