मौलाना रहमानी के निधन पर राजनितक गलियारे में भी शोक,22 साल रहे MLC, 5 माह के लिए सभापति भी

0
558
Share

बड़े इस्लामी स्कॉलर और इमारत-ए-शरिया के अमीर-ए-शरियत हजरत मौलाना वली रहमानी साहब के इंतकाल से न केवल मुस्लिम समुदाय में गम का माहौल है, बल्कि राजनितक गलियारे में भी शोक की लहर है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरा दुख जताते हुए मौलाना के अंतिम रस्म को सरकारी एजाज (राजकीय सम्मान) के साथ संपन्न कराने का आदेश दिया है। मौलाना के इंतकाल की खबर फैलते ही शोक जताने वालों का तांता लग गया है। लालू, मांझी, तेजस्वी और सैयद शाहनवाज हुसैन ने भी गहरा दुख जताया है।

1974 से 1996 तक रहे MLC
मौलाना वली रहमानी 29 जनवरी 1985 से 05 जुलाई 1985 तक बिहार विधान परिषद के सभापति रहे थे। बिहार विधान परिषद् के कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने मौलाना रहमानी के निधन पर शोक जताया। जानकारी दी कि रहमानी जी 1974 से 1996 तक बिहार विधान परिषद के सदस्य रहे थे।

शोक संदेशों का लगा तांता
मौलाना रहमानी के इंतकाल पर पूर्व CM जीतन राम मांझी ने गहरा शोक जताया है। राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने अपने शोक संदेश में कहा है कि हजरत मौलाना वली रहमानी साहब आज आप दुनिया से भले ही रुख्सत हो गए, लेकिन आपकी तहरीकात, तहरीरें, इल्म और अमल हमेशा जिंदा रहेंगी। आपकी अमूल्य खिदमात का हमारा सूबा हमेशा कर्जदार रहेगा। परवरदिगार से दुआ है आपको जन्नत में आला मकाम मिले और घरवालों और सभी चाहने वालों को सब्र व हिम्मत। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने अपने शोक संदेश में कहा है कि इमारत- ए- शरीया के अमीर-ए-शरियत मौलाना वली रहमानी साहब के वफात (निधन) की खबर सुनकर मुझे दिली सदमा हुआ है। आप एक मारूफ मजहबी आलिम-ए-दीन थे। खुदा से दुआ है कि आपको मगफिरत फरमा जन्नत में आला मकाम दें। आपके घर वालों और चाहनेवालों को इस रंज और गम को बर्दाश्त करने की हिम्मत दें।

भाजपा के शाहनवाज हुसैन ने भी जताया दुख
बिहार सरकार में उद्योग मंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने भी मौलाना रहमानी के इंतकाल पर गहरा दुख प्रकट किया है। SC/ST कल्याण एवं लघु जल संसाधन विभाग के मंत्री संतोष मांझी, HAM प्रवक्ता डॉ दानिश रिजवान ने भी शोक जताया है। विधान पार्षद एवं कारवां ए उर्दू के संयोजक प्रोफेसर गुलाम गौस ने भी अमीर-ए-शरीयत हजरत मौलाना वली रहमानी के इंतकाल पर दुःख प्रकट किया है। अपने शोक संदेश में लिखा है-हमारे बीच से इस्लामी दुनिया का एक अद्वितीय चिंतक हमसे जुदा हो गया है, जिसकी भरपाई नहीं हो सकती। जमाना उन्हें सदियों याद करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here