वर्चुअल मीटिंग में ही डाउन होने लगा RJD सुप्रीमो का ऑक्सीजन,’तबीयत ठीक होने पर आपके बीच जरूर आएंगे’ कह नमस्कार किया

0
1798
Share

साढ़े तीन साल बाद RJD के नेताओं से वर्चुअली मुखातिब हुए लालू प्रसाद यादव करीब तीन मिनट ही बोल सके। वर्चुअल मीटिंग के दौरान ही उनका ऑक्सीजन लेवल डाउन हो गया। असुविधा महसूस करने लगे। इसके बाद उन्होंने ‘तबियत ठीक होने पर आप लोगो के बीच जरूर आएंगे…’ कहकर सभी को नमस्कार किया। तेजस्वी यादव ने पहले ही यह बात सभी को बता दी थी कि लालू प्रसाद की तबियत बहुत ठीक नहीं है और वे ज्यादा नहीं बोलेंगे। वही हुआ भी।

ऊंची आवाज गायब रहने से निराशा हुई लेकिन हौसला देखने लायक रहा

लालू प्रसाद टी शर्ट पहने हुए थे। आवाज भी भारी लगती रही और सांस भी फूलती रही। कई बार बोलते-बोलते रुक जा रहे थे। धीरे-धीरे बोल रहे थे। लालू पहले जिस तरह रैलियों में बोलते रहे हैं वैसा नहीं बोल पा रहे थे। तेज और ऊंची आवाज गायब थी। इन सबों के बावजूद लालू प्रसाद का हौसला देखने लायक रहा।

वर्षों बाद उन्हें इस तरह से बोलते सुन उनके शुभचिंतक काफी खुश हुए। लेकिन जिस तरह थोड़ी देर बोलने के बाद थकने से लगे, उससे निराशा हुई। हालांकि लालू प्रसाद ने शुभचिंतकों से वादा किया कि वे जैसे ही बीमारी से ठीक होंगे, लोगों के बीच आएंगे।

लालू प्रसाद की तबियत ठीक नहीं होने की वजह से वर्चुअल मीटिंग में भी देर हुई। 2 बजे मीटिंग निर्धारित थी लेकिन शुरू हुई 2:45 बजे। हालांकि इसमें थोड़ी देर तकनीकी कारणों से भी हुई। सुनते हुए लगता रहा कि लालू प्रसाद और बोलेंगे। लेकिन उनकी सांस फूलने लगी तो अपना संबोधन खत्म करना बेहतर समझा।

पहली वर्चुअल मीटिंग में क्या-क्या बोले लालू

अपनी पहली वर्चुअल मीटिंग में जुड़ते ही लालू प्रसाद ने सबों के साथ दुआ सलाम किया। कोरोना से परेशान बिहार के लोगों के प्रति चिंता प्रकट की। कहा कि स्वस्थ होते ही आप लोगों के बीच में आऊंगा। आप सभी पूरी तरह से अपने गरीब लोगों की सेवा करिए। लाखों लाख लोगों की मृत्यु हुई है। चारों तरफ तबाही है। ऐसे समय में आपका फर्ज होता है कि जितना हो सके, जनता के बीच जाकर उनकी सेवा करिए। हम बीमार हैं, इस स्थिति में कहीं नहीं जा रहे हैं। जैसे ही ठीक होंगे, आप सबों के बीच आएंगे।

इससे पहले तेजस्वी यादव ने मीटिंग शुरू करते हुए कहा कि बिहार में सरकारी अस्पतालों की स्थिति इतनी खराब है कि जनता वहां नहीं जाना चाहती है। सरकार कोरोना में हर तरह से विफल हो रही है। राष्ट्रीय जनता दल हर तरह से मदद कर रहा है। उन्होंने कहा कि पटना से बाहर शेष बिहार में स्वास्थ्य सुविधा नहीं है।

लालू ​​​​​​से मुखातिब हुए पार्टी के 144 नेता

RJD सुप्रीमो की वर्चुअल मीटिंग में तेजस्वी यादव सहित RJD के विधायक, पार्षद और पार्टी के हारे हुए प्रत्याशी समेत कुल 144 नेता जुड़े। इस मीटिंग का इंतजार सभी को इसलिए था कि लंबे अरसे के बाद लालू प्रसाद ने पार्टी के नेताओं के साथ संवाद किया। जमानत पर छूटने के बाद सभी को इंतजार था कि लालू प्रसाद की राजनीतिक गतिविधियां कब शुरू होती हैं। यह इंतजार अब खत्म हो गया। अभी तो लालू प्रसाद खास नेताओं से ही जुड़े, लेकिन इसके बाद होने वाली वर्चुअल मीटिंग में वे पार्टी के पदाधिकारियों से भी जुड़ेंगे।

लालू की मीटिंग पर CBI की नजर

RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने लगभग साढ़े तीन साल बाद पहली बार किसी राजनीतिक मीटिंग में भाग लिया है। विधायकों के साथ बात करना राजनीतिक बैठक ही माना जाएगा। वह फिलहाल झारखंड हाईकोर्ट से जमानत पर बाहर आए हैं। इसलिए इस मीटिंग पर CBI की भी नजर थी। लालू की राजनीतिक बयानबाजी को आधार बनाकर CBI उनकी जमानत को रद्द कराने फिर से कोर्ट जा सकती है।

शनिवार को हुआ वर्चुअल मीटिंग का ट्रायल

रविवार को 2 बजे होने वाली वर्चुअल मीटिंग को लेकर शनिवार को ट्रायल भी किया गया। शनिवार को ट्रायल में कुछ विधायक तकनीकी कारण से नहीं जुड़ पाए थे। उस तकनीकी बाधा को पूरा किया गया। शनिवार को हुए ट्रायल की जानकारी कई नेताओं ने सोशल मीडिया पर शेयर भी की थी। रणविजय साहू ने सोशल मीडिया पर वर्चुअल मीटिंग के रिहर्सल की फोटो साझा करते हुए लिखा कि लालू जी के आने से राष्ट्रीय जनता दल के कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा का संचार होगा। पार्षद रामबली चंद्रवंशी ने कहा कि लालू प्रसाद एक विचारधारा का नाम है। इसलिए उनके संदेश का राष्ट्रीय महत्व है। देश की राजनीति जिस दिशा में जा रही है वैसे समय में लालू प्रसाद का हर शब्द मायने रखता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here