विदेशी भी चखेंगे बिहार की शाही लीची का स्वाद; 500 KG लंदन भेजी गई, 750 KG कल दुबई जाएगी

0
1051
Share

पहली बार बिहार की शाही लीची को फाइटोसेनेटरी सर्टिफिकेट मिला। कृषि विभाग और कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) के प्रयास से सोमवार को मुजफ्फरपुर की 500 किलो शाही लीची लंदन भेजी गई। 26 मई को 750 किलो शाही लीची दुबई भेजी जाएगी। फाइटोसेनेटरी सर्टिफिकेट के बाद अब इसे बिहार की लीची के नाम से जाना जाएगा। इससे दूसरे कृषि उत्पादों का निर्यात भी आसान होगा। निर्यातकों को फाइटोसेनिटरी सर्टिफिकेट के लिए अब दूसरे राज्यों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। इससे कृषि उत्पादों का निर्यात बढ़ेगा। सोमवार को सोमवार को पटना एयरपोर्ट से दिल्ली व अन्य महानगराें के लिए भेजी गई। बुधवार से मुंबई, पुणे, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, बेंगलुरु, कोलकाता सहित अन्य शहरों में दरभंगा एयरपोर्ट से भी 2 टन लीची भेजी जाएगी। इससे किसानों को काफी राहत मिलेगी।

मंत्री ने जताई प्रसन्नता

वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग से एपीडा अध्यक्ष डॉ. एम अगामुथ्थु और कृषि सचिव डॉ. एन सरवण कुमार ने हरी झंडी दिखाकर लीची भेजी। कृषि मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने इस पर प्रसन्नता जताई है। साथ ही उम्मीद है कि अब बिहार से निर्यात बढ़ेगा। आने वाले दिनों में बिहार का विशिष्ट भौगोलिक उत्पाद जर्दालू आम, मखाना, मगही पान और भागलपुर का कतरनी चावल निर्यात के लिए प्रयास तेज होंगे। पहले बिहार के उत्पाद भी कोलकाता से यह सर्टिफिकेट लेकर भेजे जाते थे। उन उत्पादों के लिए विदेशी ऑर्डर भी बंगाल को ही मिलते थे, क्योंकि वहां वह उत्पाद ‘बंगाली उत्पाद’ के नाम से जाना जाता था।

लाॅगिन आईडी भी जारी

कृषि सचिव डाॅ. एन सरवण कुमार ने कहा कि बिहार इस सर्टिफिकेट के लिए प्रयास कर रहा था। लगातार प्रयास के बाद केंद्र सरकार ने 19 मार्च को सर्टिफिकेट जारी करने का अधिकार दे दिया। इसका लाॅगिन आईडी भी जारी कर दिया है। किसी भी कृषि उत्पाद के निर्यात के लिए फाइटोसेनिटरी सर्टिफिकेट जरूरी होता है। बिहार सरकार को यह अधिकार नहीं होने कि कारण निर्यातक को पहले कोलकाता या मुंबई से यह प्रमाण पत्र लेना होता था। जांच के लिए उत्पाद को वहां ले जाना कठिन समस्या थी। सर्टिफिकेट देने के पहले अधिकारी देखते हैं कि उत्पाद में कोई ऐसा कीट तो नहीं है, जो निर्यात वाले देश के लिए हानिकारक हो। यातायात करने वाले देश में प्रतिबंधित हो। अगर सबकुछ आयात करने वाले देश के अनुकूल हुआ तो निर्यातक को उत्पाद उस देश में भेजने का सर्टिफिकेट मिल जाता है।

दिल्ली व अन्य महानगरों में भेजी गई शाही लीची

शाही लीची सोमवार को पटना एयरपोर्ट से दिल्ली व अन्य महानगराें के लिए भेजी गई। दिल्ली के लिए दो किलो के स्पेशल 463 पैकेट व 10-10 किलो के 150 पैकेट लीची दिल्ली भेजी गई। जिले के लीची किसानों को पटना एयरपोर्ट से एक दिन पहले ही लीची दिल्ली व अन्य शहरों में भेजनी पड़ रही है। इसकी वजह एयरपोर्ट अथॉरिटी ने किसानों को सुबह 11 बजे तक लीची लोड कराने का समय दिया है। इससे किसानों को एक दिन पहले लीची एयरपोर्ट पहुंचानी पड़ती है। इस बीच किसानों ने सरकार से मांग की है कि रात 8 बजे कार्गो प्लेन से लीची भेजने की व्यवस्था कराई जाए, ताकि ज्यादा से ज्यादा अन्य प्रदेशों में लीची की सप्लाई हाे सके।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here