सीतामढ़ी में 1992 में हुए दंगा पीड़ितों को इंसाफ दिलाने की मांग

0
1056
Share

सीतामढ़ी |स्थानीय भैरो कोठी लीची बागान में एक बैठक युवा कांग्रेस विधानसभा अध्यक्ष अफजल राणा के तत्वधान में की गई। जिसमें श्री राणा ने कहा कि दंगा पीड़ितों के साथ भेदभाव करना मानवता के खिलाफ है 1984 में हुए सिख दंगा पीड़ितों की तरह सीतामढ़ी दंगा पीड़ितों को मुआवजा मिलना चाहिए।

श्री राणा ने कहा कि जिस तरह से एक दंगा भागलपुर दंगा हुआ उसी तरह सीतामढ़ी जिले में 1992 एवं वर्ष 2016 में मुहर्रम पर्व पर कचोर में भी दंगा हुआ था इसी तरह वर्ष 2018 में मुरलिया चक में संप्रदाय दंगा हुआ था इसमें भोरा निवासी मरहूम जैनुल अंसारी का मोब लिंचिंग किया गया लेकिन आज तक पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिला जो लोग दंगा में अभियुक्त बनाया गया था यह लोग जमानत पर बाहर घूम रहे हैं।

यह सरकार की नाकामी है मगर आज तक दंगा पीड़ितों को इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही है सीतामढ़ी दंगा में सैकड़ों लोगों की हत्या किया गया तथा घर के सभी समार्गी लूट लिया गया एवं जबरन जमीन रजिस्ट्री करवा लिया गया श्री राणा ने इस बैठक के माध्यम से जिला प्रशासन एवं राज्य सरकार से त्वरित कार्रवाई की मांग की साथ ही न्यायपालिका से स्वत संज्ञान लेने की अपील की जिसमें कि दंगा पीड़ितों को इंसाफ मिल सके।

वही बैठक में मौजूद युवा कांग्रेस विधानसभा सचिव मुकेश कुमार ने कहा कि दंगा पीड़ितों को दंगा के बाद मधुबन पंचायत के तलखापुर लालू नगर में सरकारी जमीन पर आकर बस गया तत्कालीन भूमि सुधार मंत्री रमई राम ने कुछ दंगा पीड़ितों को बासित पर्चा दिलाया लेकिन अन्य लोगों को उनके आदेश के बावजूद भी जिला प्रशासन जमीन का बासिक पर्चा नहीं दिया जिसके कारण जमीन के पीछे वाले जमींदार लोग घर हटाने के लिए मजबूर कर रहे हैं।

जिला प्रशासन से मांग है कि अति शीघ्र उचित कार्रवाई करते हुए दंगा पीड़ितों को बासीक पर्चा दिलाए जाए जिससे वह सकून से रह सके वही दंगा पीड़ितों को उचित मुआवजा दिलाने की मांग श्री राणा ने जिला प्रशासन से की है बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है कि अगर दंगा पीड़ितों को इंसाफ नहीं दिया जाएगा तो चरणबद्ध आंदोलन व्यापक पैमाने पर शुरू किया जाएगा और इसकी एक लिखित ज्ञापन राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं बिहार मानवाधिकार एवं राज्य सरकार के माध्यम से इसकी निष्पक्ष जांच सीबीआई से कराने की मांग की है।

इस बैठक में दंगा पीड़ितो एवं समाजसेवी मोहम्मद जमील अख्तर खान मोहम्मद इब्राहिम खान मोहम्मद हबीब अंसारी आस मोहम्मद इकबाल खान इदरीश खान मकसूद आलम रियाज अंसारी रोहित कुमार अमित कुमार धीरज कुमार सफीउल्लाह अंसारी सगीर अंसारी शाहिद अंसारी अली अंसारी समेत सैकड़ों युवा कांग्रेसी एवं नंगा प्रीत मौजूद थे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here