80 वर्षों से जिसने हर सुख-दुख में साथ निभाया, उसे मरने के बाद चार कंधे नसीब नहीं

0
1152
Share

त्रिवेणीगंज थाना क्षेत्र में आज एक कोरोना पॉजिटिव 80 वर्षीया महिला की मौत हो गई। 80 वर्षों से जिसने हर सुख-दुख में साथ निभाया, उसे मरने के बाद चार कंधे नसीब नहीं हो रहे। मौत के बाद मृतका के परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार करने से साफ मना कर दिया। 8 घंटे महिला का शव त्रिवेणीगंज थाना क्षेत्र के पतर्घट्टी वार्ड नम्बर 8 स्थित उनके घर पर पड़ा है। समाज के गिने-चुने लोगों ने भी अंतिम संस्कार करने से हिचकते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया।

थानाध्यक्ष संदीप कुमार सिंह को उक्त महिला की कोरोना से मौत की जानकारी मिली तो थानाध्यक्ष CO दिनेश प्रसाद के साथ मृतका के घर पर पहुंचे और अंतिम संस्कार के लिए परिजनों की खोजबीन की। जब कोई अंतिम संस्कार के लिए आगे नहीं आया तब जाकर समाज के कुछ लोगों को अंतिम संस्कार के लिए कहा गया। जब वह भी आगे नहीं आए तो थानाध्यक्ष के द्वारा दो लोगों को PPE किट पहनकर अंतिम संस्कार करने के लिए बुलाया गया, फिर भी लोग वहां से वापस चले गए।

शव को मृत घोषित कर चले गए अस्पताल कर्मी
मृतका के रिश्तेदार ने बताया कि रविवार सुबह जगने के बाद बुआ (मृतिका) ठीक थी। करीब 10 बजे सुबह फिर गए देखने तो उनकी मृत्यु हो गई थी। इसके बाद त्रिवेणीगंज अनुमंडलीय अस्पताल फोन कर स्थिति की जानकारी दी गई, लेकिन स्वास्थ्य कर्मी अपनी टीम के साथ दिन के करीब एक बजे पहुंचे औऱ शव को मृत घोषित कर चलते बने।

DM की पहल पर हुआ अंतिम संस्कार
जब मामला DM महेंद्र कुमार के संज्ञान में आया तो उनकी पहल पर 8 घंटे बाद रविवार संध्या छह बजे वरीय अधिकारियों के दबाव पर अनुमंडलीय अस्पताल त्रिवेणीगंज की नींद खुली औऱ अस्पताल के स्वीपर औऱ NGO कर्मी कोरोना संक्रमित महिला के शव को सैनिटाइज करने आए। इसके बाद थानाध्यक्ष संदीप कुमार सिंह, अंचलाधिकारी दिनेश प्रसाद, मुखिया अजित कुमार गुड्डू और बुद्धिजीवियों की मौजूदगी में महिला का अंतिम संस्कार किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here